21 दिनों बाद भी अपहृता का सुराग पाने में पुलिस विफल

पूर्णिया।अभयरामचकलाकेकारीमंडलटोलासेचोपड़ाबाजारस्थितग्राहकसेवाकेंद्रमेंरुपयेजमाकरनेगई16वर्षीयनाबालिगकेबारेमें21दिनोंबादभीपुलिसकोकोईसुरागहाथनहींलगाहै।ऐसेमेंअपहृताकेमाता-पिताऔरपरिजनइसबातकोलेकरकाफीपरेशानहैं।पीड़ितपरिजनोंनेबतायाकिघटनाकेपांचदिनबादअपराधियोंनेअलग-अलगमोबाइलनंबरसेदोबारबातचीतभीकीथी।आरोपीकेचंगुलमेंअपहृतासेभीपीड़ितपितानेबातचीतकी।परिजनोंकाकहनाहैकिआरोपितजितनीबातबोलनेकेलिएअपहृताकोकहतेहैंवहमोबाइलपरउतनीहीबातबोलतीहै।लेकिनपूछेजानेपरआरोपितअपनानामऔरठिकानानहींबताते।मंगलवारकोतीसरीबारपीड़िताकेपिताकेमोबाइलपरआरोपितनेदूसरेमोबाइलनंबरसेबातचीतकी।इधरसेनामऔरठिकानापूछनेपरसंतोषजनकजबाबनहींदिया।घटनाकीसूचनादेनेथानापहुंचेपीड़ितपितानेपुलिसकोपूरीजानकारीदी।पश्चातएकपुलिसपदाधिकारीनेभीउक्तमोबाइलनंबरसेआरोपितसेबातचीतकी।आशंकाजताईजारहीहैकिगांवकेहीएकशादीशुदाव्यक्तिनेइसघटनाकोअंजामदियाहै।जानकारबतातेहैंकिमोबाइलपरहुईकईबारबातचीतकेक्रममेंआवाजजानी-पहचानीलगतीहै।परिजनोंनेयहभीजानकारीदीकिअपहृतासेमोबाइलपरहुईबातचीतअनुसारउसेपंजाबकेहोशियारपुरजिलेलायागयाहैजहांउसकीशादीएकदिव्यांगयुवकसेकरवादीगई।अबअपहृताकोवहांप्रताड़ितकियाजारहाहै।पीड़ितपरिजनकीशिकायतहैकिपुलिसइसमामलेमेंकुछनहींकररहीहैऔरकुंडलीमारकरबैठीहै।जानकारीदीगईकिपूर्वमेंहीपुलिसकोजबआरोपितोंकेमोबाइलनंबरउपलब्धकरादिएगएतोआखिरअपहृताकीबरामदगीअबतकपुलिसक्योंनहींकरसकीहै।बनमनखीकेएसडीपीओविभाषकुमारकोभीपूर्वमेंघटनाक्रमसेपीड़ितनेअवगतकरायाहैतथाघटनाकोअंजामदेनेवालेकानामवपताबतायाहै।एसडीपीओनेपरिजनकोकार्रवाईकाआश्वासनभीदियालेकिनइसकेबावजूदकार्रवाईशून्यहै।पुलिसकाकहनाहैकिमामलेमेंवैज्ञानिकअनुसंधानजारीहै।