भारत के उत्कर्ष में ही विश्व की भलाई : पूर्व कुलपति

फोटो-14बीएएन16,17

जागरणसंवाददाता,बांका:केंद्रीयविश्वविद्यालयरांचीकेपूर्वकुलपतिडा.नंदकुमारयादवइंदुनेकहाकिबदलतीदुनियाभारतकोउम्मीदभरीनजरोंसेदेखरहीहै।हमारीताकतकिसीकेभयकेलिएनहींहै।हमारीसंस्कृतिसंपूर्णविश्वकाकल्याणचाहतीहै।ऐसेमेंभारतकाउत्कर्षहीदुनियाकोविकासऔरशांतिकीराहदिखासकताहै।वेगुरुवारकोडायटमेंआयोजितस्वतंत्रताकेअमृतमहोत्सवमेंस्वाधीनतासेस्वतंत्रताकीओरविषयपरमुख्यवक्ताकेतौरपरलोगोंकोसंबोधितकररहेथे।

उन्होंनेकहाकिहमनेलिच्छवीसेगणतंत्रदेखाहै।स्वतंत्रताके75वेंवर्षमेंहमअपनेदेशकोस्वाधीनतासेस्वतंत्रताकीओरलेचलें।हमारीन्यायव्यवस्था,हमारीशिक्षा,शासनऔरप्रशासनसारासिस्टमअंग्रेजोंकादियाहुआहै।जरूरतहैकिहमखुदकीव्यवस्थाबनाएं।अध्यक्षीयभाषणमेंराष्ट्रपतिसम्मानसेसम्मानितप्रधानाध्यापकसुबोधनारायणसिंहनेकहाकिपीढि़योंकोअपनीसंस्कृतिऔरसभ्यताकीजिम्मेदारीनिभानेकीजरूरतहै।हमनेपूर्वजोंसेजोलिया,उसेआगेबढ़ाएं।भारतआजकाभारतनहींहै,बल्किहमारीसंस्कृतिसदियोंपुरानीहै।सभामेंमौजूदलोगोंकोभारतकेलिएभरतबननेकीजरूरतहै।साथहीअहंकारत्यागनेकीजरूरतहै।प्रस्तावनामेंसंयोजकमनोजपांडेयनेकहाकिदेशकीआजादीमेंकईलोगगुमनामरहगए।देशकोअंग्रेजीशासनसेमुक्तकरनेमेंएक-एकगांवनेकुर्बानीदीहै।इसकेपहलेबाबासाहबआंबेडकरऔरभारतमाताकेचित्रपरमाल्यापर्णऔरदीपजलाकरकार्यक्रमशुरूहुआ।इसमौकेपरआरएसएसकेजिलासंघचालकराधेप्रसादयादवभीथे।मंचसंचालनसंजनासिंहातथाधन्यवादज्ञापनरौशनकुमारनेकिया।वक्ताऔरशहीदस्वजनकोपत्रकारबिभांशुनेविप्लवीबांकापुस्तकदिया।आयोजनमेंदिलीपचौधरी,डा.एसकेपीसिंहा,राहुलडोकानियां,राहुलगुप्ता,विनयकुमारसिंह,सत्येंद्रकुमार,आशीषकुमार,आलोककुमारसिंहआदिप्रमुखरुपसेमौजूदथे।

शहीदकेस्वजनोंकाहुआसम्मान

बांका:डायटकेअमृतमहोत्सवसमारोहमेंआयोजनसमितिकेसदस्योंनेशहीदपरिवारकेलोगोंकोअंगवस्त्रदेकरसम्मानितकिया।इसमेंपरशुरामसिंहकेपुत्रबसमत्तानिवासीगोपालसिंह,शहीदश्रीगोपकेपुत्रलकड़ीकोलानिवासीभूदेवयादव,बेलहरथानाजलानेमेंशहीदगुदरसिंहकेपौत्रप्रमोदकुमारसिंह,शहीदजमुनासिंहकेपौत्रवीरेंद्रप्रतापसिंह,शहीदआद्यासिंहकेपौत्रअरूणकुमारसिंहकोसम्मानितकियागया।इनकासम्मानश्रीप्रसादयादव,प्रो.राजेंद्रकुमार,शिक्षकशंकरमंडल,राहुलकश्यप,अभिजीतचौधरीनेकिया।