बिहार: घुटने भर पानी में चलकर परीक्षा देने पहुंचे अभ्यर्थी, कहा- सरकार को करनी चाहिए थी व्यवस्था

छपरा: बिहारमेंअमूमनसभीनदियांउफानपरहैं.नदियोंमेंआएउफानकीवजहसेकईगांवबाढ़कीचपेटमेंहैं.हालांकि,बाढ़केबावजूदपरीक्षाओंकासिलसिलाजारीहै,जिससेपरीक्षार्थियोंकोपरेशानीकासामनाकरनापड़रहाहै.शुक्रवारकोबिहारकेसारणजिलेमेंपरीक्षार्थियोंकेपरेशानीकीतस्वीरसामनेआई.सीईटी-बीएड-2021कीपरीक्षादेनेपहुंचेपरीक्षार्थियोंकोघुटनेभरपानीमेंचलकरपरीक्षाहॉलतकपहुंचनापड़ा.

जलमग्नहुआकॉलेजपरिसर

दरअसल,ललितनारायणमिथिलाविश्वविद्यालय,दरभंगाद्वाराआयोजितबिहारबीएडसंयुक्तप्रवेशपरीक्षा-2021काआयोजनजिलामुख्यालयछपरास्थित09परीक्षाकेन्द्रोंपरहोनाथा.इननौकेंद्रोंमेंसेएकछपराकापीएनसिंहडिग्रीकॉलेजभीथा.लेकिनसरयूनदीकाजलस्तरबढ़जानेकीवजहसेपूराकॉलेजपरिसरजलमग्नहोगया,जिसवजहसेपरीक्षार्थियोंकोकाफीपरेशानीकासामनाकरनापड़ा.

छात्राओंनेबताईपरेशानी

परीक्षार्थीघुटनेभरपानीमेंचलकरपरीक्षाहॉलतकपहुंचतेनजरआए.वहीं,कुछछात्राएंठेलेपरबैठकरपानीपारकरतीदिखीं.इससंबंधमेंजबउनसेपूछागयातोउन्होंनेकहाकिउन्हेंकाफीपरेशानीहोरहीहै.परीक्षादेंयाछोड़देंयेसमझनहींआरहा. सरकारकोकोईवैकल्पिकव्यवस्थाकरनीचाहिएथी.यातोवेपरीक्षाकीतिथिआगेबढ़ादेतेयापहलेहीपरीक्षालेलेते.बाढ़केपानीमेंभींगकरआने-जानेमेंपरेशानीकेसाथहीबीमारियोंकाभीखतराहै.

कर्मचारियोंकोभीहोरहीहैदिक्कत

इधर,कॉलेजकेकर्मचारीनेबतायाकिपरेशानीतोहोहीरहीहै.सरयूकेजलस्तरमेंवृद्धिकेबादकॉलेजजलमग्नहोगयाहै.लेकिनपरीक्षार्थियोंकेलिएठेलेकीव्यवस्थाकीगईहै.सरकारीआदेशहैतोपरीक्षातोकिसीभीतरहलेनीहीहै.परीक्षार्थियोंकेसाथहीकॉलेजकेकर्मचारियोंकोभीदिक्कतहोरहीहै.दोदिनोंपहलेआपदाप्रबंधनविभागकोइसकीसूचनादीथी.उन्होंनेजलनिकासीकेउपायभीकिएथे.लेकिनआपदापरकिसीकावशनहींहै.

BiharPolitics:तेजस्वीको‘तेज’कीमिर्ची!जगदानंदसिंहपरकियागयासवालतोकुर्सीछोड़करचलेगए

CasteBasedCensus:तेजस्वीनेJDUपरकसातंज,कहा-PMमोदीसमयक्योंनहींदेरहेयहनीतीशकुमारहीसमझें