ब्रह्मकुमारी विश्वविद्यालय में देवी की जीवंत झांकी

झुमरीतिलैया(कोडरमा):झुमरीतिलैयाकेअड्डीबंगलारोडस्थितब्रह्ममाकुमारीईश्वरीयविश्वविद्यालयसभागारमेंमंगलवारकीरात्रिविभिन्नदेवियोंकीजीवंतझांकियोंकाउद्घाटनजिपअध्यक्षशालिनीगुप्ता,गौशालासमितिकेसुरेशजैन,ब्रह्माकुमारीसेंटरकीसंचालिकाबसंतीबहननेफीताकाटकरएवंदीपप्रज्ज्वलितकरकिया।इसअवसरपर¨शपीकुमारी,शिखाकुमारी,प्रीतिकुमारी,शीतलकुमारी,लक्ष्मीकुमारीनेमांदुर्गा,सरस्वती,मातालक्ष्मी,मांकाली,मांसंतोषीकेरूपमेंशामिलहुईं।वहींराक्षसकेरूपमेंललनकुमारथे।गुरुवारतकयहझांकीसंध्यामेंआयोजितहोगी।मौकेपरजिपअध्यक्षशालिनीगुप्तानेकहाकिबालिकाओंमेंमांदुर्गा,सरस्वतीवलक्ष्मीकावासहोताहै।उन्हेंजागृतकरनेकीजरूरतहै।मौकेपरकेंद्रसंचालिकाब्रह्माकुमारीबसंतीबहननेकहाकिमांदुर्गाशेरकीसवारीनिर्भयताकीनिशानीहै।ज्ञानकीदेवीसरस्वतीतथाधनकीदेवीमातालक्ष्मीहैंऔरतीनोंहीनारीशक्तिकाप्रतीकहै।नारीशक्तिकोअबपुन:जागृतहोनाहोगा।परमपिताशिवपरमात्मासेमन,बुद्धिजोड़करआत्मामेंशक्तिभरविश्वकेआत्माओंकेदुख-दर्दकोदूरकरकलियुगीसृष्टिकोबदलसतयुगीसृष्टिमेंपरिवर्तननारीशक्तिद्वाराहोताहै।सुरेशजैननेकहाकिशक्तिकीदेवीकीपूजामेंबालिकाओंकेद्वारायहस्वरूपप्रेरणास्त्रोतहै।इसअवसरपररामेश्वरकपसिमे,शंकरमगधिया,ओमप्रकाशसोनकर,नीतेशकुमार,राजेशकुमार,सागरकुमार,बैजनाथठाकुर,सूरजकुमार,सज्जनसंघई,शंभूप्रसादआदिथे।