ड्रिप हो या स्प्रिंकलर, पानी बचाने में दोनों कारगर

गोंडा:ड्रिपहोयास्प्रिंकलर,दोनोंपद्धतियोंसेसिचाईकरनेपरपानीकीबचतहोगी।किसानअनुदानपरयेप्रणालीअपनेखेतोंमेंस्थापितकरासकतेहैं।यहबातेंमंडलायुक्तमहेंद्रकुमारनेकहीं।उन्होंनेमंगलवारकोशहरकेपंतनगरस्थितबादशाहबागमेंप्रधानमंत्रीकृषिसिचाईयोजनाकेतहतकिसानोंकीदोदिवसीयगोष्ठीकाआरंभविधायकप्रभातवर्माकेसाथसंयुक्तरूपसेकिया।आयुक्तनेकहाकिऔद्यानिकखेतीकेलिएसिचाईकीयेपद्धतिकाफीकारगरसाबितहोरहीहै।इसकीस्थापनाकेलिएसरकार80-90फीसदअनुदानदेरहीहै।विधायकनेकहाकिप्रधानमंत्रीकिसानोंकीआयदोगुनीकरनेकेसाथहीजलसंरक्षणकेलिएप्रयासकररहेहैं।येव्यवस्थाकिसानोंकीनसिर्फलागतबचाएगी,बल्किफसलकीउत्पादनभीसामान्यकीअपेक्षाअधिकहोगा।उपनिदेशकउद्यानदेवीपाटनमंडलअनीशश्रीवास्तवनेबतायाकिड्रिपवस्प्रिंकलरकीस्थापनापरलघु/सीमांतकिसानोंको90प्रतिशतवसामान्यश्रेणीकेकिसानोंको80प्रतिशतअनुदानमिलेगा।एककिसानकोअधिकतमपांचहेक्टेयरतकहीअनुदानमिलसकेगा।कार्यक्रममेंऔद्यानिकखेतीकरनेवालेगोंडाके11,बहराइच,बलरामपुरवश्रावस्तीसेतीन-तीनकिसानोंकोअंगवस्त्रभेंटकरसम्मानितकियागया।कार्यक्रममेंउपनिदेशककृषिमुकुलतिवारी,जिलाउद्यानअधिकारीबहराइचपारसनाथ,उद्याननिरीक्षकअनिलकुमारशुक्ल,गिरीशकुमारमिश्र,जीतेंद्रसिंह,धीरेंद्रकुमारमौजूदरहे।