जान जोखिम में डालकर आद बुझाने वाले एसएचओ सम्मानित

संवादसूत्र,जैतो

जैतो-कोटकपूरामार्गपरकोठेजैलदारअवतारसिंहवालामें27मार्चकोशार्ट-सर्किटसे85एकड़गेहूंकीनाड़कोआगलगगईथी।थानाप्रभारीइंस्पेक्टरराजेशकुमारद्वारादमकलविभागकीगाड़ीआनेसेपहलेस्वयंआगलगेखेतोंकेबीचजाकरअपनीजानजोखिममेंडालकरआगकोफैलनेसेरोकनेकाप्रयासकिया।पानीकीआपूर्तिकेलिएपुलिसप्रभारीराजेशकुमारनेवाटरव‌र्क्ससेसंपर्ककरपानीसप्लाईभीबहालकरवाई।आखिरमौकेपरपहुंचीदोदमकलगाडिय़ोंनेआगपरकाबूपाया।इसघटनाक्रमकीवीडियोइंटरनेटमीडियापरवायरलहोगई।पंजाबकिसानयूनियनद्वाराएसएचओइंस्पेक्टरराजेशकुमारकोसम्मानितकियागया।

यूनियनकेजिलाअध्यक्षगुरजीतसिंहनेकहाकेपुलिसद्वाराकीजातीधक्केशाहीतथाजबरकाहमविरोधकरतेरहेहैं।परन्तुइसपुलिसअधिकारीद्वाराकिएगएकार्यकीहौसलाअफजाईकरनाभीहमाराकर्तव्यबनताहै।एसएचओराजेशकुमारतुरंतघटनास्थलपरपहुंचेतथाबिनासमयगवाएस्वयंकोआगबुझानेतथाअधिकफैलनेसेरोकनेकेप्रयत्नोंमेंजुटगए।एकपुलिसअधिकारीकोअपनेसाथआगबुझातादेखआमलोगोंकेभीहौंसलेबढ़गए।इसलिएआजइनकोसम्मानितकरकेहमअपनेआपकोसम्मानितहुआमहसूसकररहेहैं।

एसएचओराजेशकुमारनेकहाकिउन्होंनेकोईविशेषकार्यनहींकिया,पुलिसकातोकामहीलोगोंकीजानवमालकीरक्षाकरनाहोताहै।इसलिएमैंनेतोसिर्फअपनीड्यूटीनिभाईहैतथाआगेभीअपनाफर्जपूरीतनदेहीसेनिभातारहूंगा।