कार्यस्थल पर कर्मियों का व्यवहार और उनकी विवेकशीलता ही दिलाती है पहचान : महानिरीक्षक

जागरणसंवाददाता,हाजीपुर:किसीभीकर्मीकेलिएउनकेकार्यस्थलकाव्यवहारउनकेप्रगतिमेंसहायकहोताहै।अपनीसहनशीलताऔरविवेकशीलतासेवहअपनेसहकर्मियोंकेबीचअलगपहचानस्थापितकरसकताहै।इसदौरानअनुशासनएवंतत्परताभीउनकेलिएजरूरीहै।यहबातेंबिहारकेकारामहानिरीक्षकमिथिलेशमिश्रनेगुरूवारकोहाजीपुरस्थितबिहारसुधारात्मकप्रशासनिकसंस्थानमें50कारालिपिकोंएवं89चतुर्थवर्गीयकर्मचारियोंकेतीनदिवसीयप्रशिक्षणकेसमापनमौकेपरआायोजितकार्यक्रममेंकही।उन्होंनेकहाकिप्रशिक्षणकेक्रममेंजोबताएगएहैंउसेअपनेकार्यशैलीकेसाथलागूकरनेसेउनकेकैरियरमेंचारचांदलगेगा।इसमौकेपरसभीप्रशिक्षुओंकेबीचप्रमाणपत्रकावितरणकियागया।

कार्यक्रमकोसंबोधितकरतेहुएसंस्थानकेनिदेशकनीरजकुमारनेकहाकिकर्मियोंमेंकार्यक्षमताऔरकौशलविकासकेलिएसमय-समयपरप्रशिक्षणकार्यक्रमजरूरीहोताहै।इसकेमाध्यमसेकुछसिखने-सिखानेऔरएक-दूसरेकेसाथअनुभवसाझाकरनेकाअवसरमिलताहै।प्रशिक्षुओंकोइसकापूरा-पूरालाभलेनाचाहिए।कार्यक्रममेंसहायककारामहानिरीक्षकराजीवकुमारझा,उपनिदेशकअरूणपासवान,सत्रसमन्वयकरविकांतदेव,संजयकुमारसिंह,काराधीक्षकरमेशकुमार,सहायकअभियोजनपदाधिकारीशिखाशर्मा,डॉरविरंजनकुमारआदिमौजूदथे।इसमौकेपरआर्टऑफलिविगकीओरसेकईतरहकेकार्यक्रमकाआयोजनकिएगएथे।