क्या बिहार में मुस्लिम नेताओं की मजबूरी बनते जा रहे हैं नीतीश कुमार?

मुख्यमंत्रीनीतीशकुमारबिहारकेमुस्लिमनेताओंकीपसंदकेसाथमजबूरीभीबनतेजारहेहैं.

इनदिनोंबिहारकीराजनीतिमेंइसबातपरसबसेज़्यादाबहसहोतीहैकिक्याबिहारमेंविपक्षीदलोंकेमुस्लिमनेताओंकीपसंदकेसाथमजबूरीबनतेजारहेहैं?दरअसलविपक्षीराजदऔरकांग्रेसकेनेताओंकेबीचसार्वजनिकरूपसेनीतीशकुमारकेकामकाजकीतारीफऔरफिरउनकीपार्टीमेंशामिलहोनेकीहोड़लगीहै.ऐसेमेंयहसवालऔरभीज्यादापूछाजानेलगाहैकिभलेहीनीतीशकुमारबीजेपीकेसाथसरकारचलारहेहैंलेकिनवेक्याबिहारकीराजनीतिमेंसक्रियमुस्लिमनेताओंकीपहलीपसंदहैं?

इसकाएकउदाहरणरविवारकोदेखनेकोमिलाजबचारबारराजदसेसांसदमोहम्मदअलीअशरफ़फ़ातमीनेजनतादलयूनाइटेडविधिवतरूपसेज्वाइनकिया.उनसेपहलेराजदकेवरिष्ठनेतासदनकेअंदरऔरबाहरबार-बारयहसंदेशदेचुकेहैंकिअबउनलोगोंकीराजनीतिकेतारणहारनीतीशहीहोसकतेहैं.

अबराजनीतिकगलियारेमेंयहभीचर्चाहैकिकांग्रेसकेवरिष्ठनेताऔरपूर्वकेंद्रीयमंत्रीशकीलअहमदभीदेरसबेरजनतादलयूनाइटेडकारुखकरलेंतोआश्चर्यकीबातनहींहोगी.कांग्रेसकेविधायकशकीलअहमदखाननेभीबार-बारसंकेतदियाहैकिबिहारमेंनीतीशकुमारसेअच्छाकोईप्रशासकनहींहैऔरतेजस्वीयादवकेनेतृत्वमेंचुनावलड़नेकाअबकोईसवालनहींहै.अधिकांशमुस्लिमनेताओंकामाननाहैकिअगरअगलेविधानसभाचुनावमेंराजदकेसाथगठबंधनकरकेचुनावमैदानमेंजाएंगेतोहारमिलनानिश्चितहै.लेकिनअगरनीतीशकासाथहोजातेहैंतोउन्हेंकोईपराजितभीनहींकरसकता.

मुस्लिमनेताओंकायहभीकहनाहैकिनीतीशभलेहीबीजेपीकेसाथहैंलेकिनमुस्लिमसमुदायकेलिएउन्होंनेअलग-अलगयोजनाओंकेअंतर्गतजोकामशुरूकिएहैंउनकाअसरजमीनपरभीदिखताहै.उसेनज़रअंदाज़करकेवलधर्मनिरपेक्षताकेनामपरकबतकवोटमांगेजासकतेहैं.

इननेताओंकामाननाहैकिजबतकनीतीशकुमारकानेतृत्वहैतबतकबीजेपीएकसीमासेज़्यादाअपनेएजेंडाकोलागूनहींकरसकती.इसकाउदाहरणपिछलेसालरामनवमीकेबादतबदेखनेकोमिलाजबदंगाभड़कानेकेआरोपमेंकेंद्रीयमंत्रीअश्विनीचौबेकेबेटेकोभीजेलकीहवाखिलानेमेंनीतीशकुमारनेदेरनहींकी.