महादलितों की बस्तियों में नहीं पहुंची है विकास की रोशनी

संवादसूत्र,परबत्ता(खगड़िया):महादलितोंकेविकासकोलेकरकईयोजनाएंचलाईजारहीहै।फिरअधिकांशमहादलितबस्तियोंकीतस्वीरनहींबदलीहै।येयोजनाएंधरातलपरआते-आतेदमतोड़देतीहैं।अधिकांशमहादलितबस्तियोंमेंबुनियादीसुविधाओंकाअभावहै।शिक्षाकेमामलेमेंअभीभीयेपिछड़ेहुएहैं।महादलितोंकेसामनेकईजगहोंपरअबभीआवासकीसमस्याहै।वेसड़कोंकेकिनारेझुग्गी-झोपड़ीबनाकररहनेकोविवशहैं।खासकरमलिकसमुदायकेलोगोंकोआवासयोजनाकालाभनहींमिलाहै।वेअबभीपरंपरागतधंधेसेजुड़ेहुएहैं।परबत्ताप्रखंडकेकोलवारापंचायतकीकोलवारामुसहरीमें50महादलितपरिवारनिवासकरतेहैं।जिनमेंसेअभीतकमात्रछहमैट्रिकपासहैं।इनमेंएकदिव्यांगऔरएकलड़कीशामिलहै।सिकंदरमांझीकापुत्रअंकजकुमार,दिनेशमांझीकाबेटासेंपूकुमार,स्व.वासुदेवमांझीकालड़काधर्मेंद्रकुमार,वीरेंद्रकुमार,महेशमांझीकालड़काकार्तिककुमारऔररामदेवमांझीकीबेटीरूपाकुमारीमैट्रिकपासहैं।कार्तिककुमारदिव्यांगहैं।

यहांकीरजनीदेवी,रामदेवमांझी,सिकंदरमांझी,बैंगोमांझीआदिनेबतायाकिहमलोगोंतकविकासकीरोशनीनहींपहुंचीहै।यहटोलाआजभीउपेक्षितहै।कहाकिवर्षोंपहले14हजारकाइंदिराआवासमिलाथा।उसीजर्जरइंदिराआवासमेंकिसीतरहसेजीवनगुजर-बसरकरतेहैं।स्थितिअभीभीनहींबदलीहै।पंचायतप्रतिनिधिसेलेकरअधिकारीतकध्याननहींदेतेहैं।परबत्ताबीडीओअखिलेशकुमारनेकहाकिसरकारीयोजनाओंकालाभनियमसेदियाजाताहै।प्रधानमंत्रीआवासयोजनाकालाभप्रतीक्षासूचीकेआधारपरबीपीएलक्रमांकपरमिलताहै।अगरवहांकिसीप्रकारकीसमस्याहै,तोआवेदनदें।आवेदनकेआधारपरसमुचितकार्यवाहीकीजाएगी।योजनाओंकासमुचितलाभमिले,यहसरकारकीप्राथमिकताहै।