नेपाली प्रधानमंत्री ने अपने खिलाफ अनुशासनात्मक कार्रवाई के सत्तारूढ़ दल के फैसले को खारिज किया

काठमांडू,21दिसंबर(भाषा)सियासीसंकटसेघिरेनेपालकेप्रधानमंत्रीकेपीशर्माओलीनेसत्तारूढ़पार्टीकेउनकेविरूद्धअनुशासनात्मककार्रवाईकरनेसंबंधीफैसलेकोसोमवारकोखारिजकरदियाऔरकहाकिउनकेखिलाफ“साजिशें”रचीजारहीथींजिसकेकारणवहसंसदभंगकरनेकेलियेबाध्यहुए।ओलीनेरविवारकोराष्ट्रपतिसेसंसदभंगकराकरअपनेप्रतिद्वंद्वियोंकोआश्चर्यमेंडालदिया।सत्तारूढ़दलकेअंदरहीउनकेऔरपूर्वप्रधानमंत्रीपुष्पकमलदहल‘प्रचंड’केबीचलंबेसमयसेचलरहीखींचतानकेबादयहविवादास्पदकदमउठायागया।सत्तारूढ़नेपालकम्युनिस्टपार्टीकीस्थायीसमितिनेअपनीबैठकमेंओलीकेइसकदमको‘असंवैधानिक,अलोकतांत्रिकऔरव्यक्तिगतसनकपरआधारित’करारदियाऔरप्रधानमंत्रीकेखिलाफअनुशासनात्मककार्रवाईकरनेकीसिफारिशकी।दिकाठमांडूपोस्टकीखबरकेअनुसारइसकदमकोखारिजकरतेहुएओलीनेकहाकिपार्टीकेद्वितीय-अध्यक्षद्वारालियागयायहनिर्णयपार्टीसंविधानकेविरूद्धहै।भंगप्रतिनिधिसभाकेसांसदकृष्णारायकेअनुसारओलीनेकहा,‘‘मैंक्योंकिपार्टीकाप्रथमअध्यक्षहूं,इसलिएद्वितीयअध्यक्षद्वाराबुलायीगयीबैठकवैधनहींहोगी।’’‘माईरिपब्लिका’कीखबरकेमुताबिकबैठकमेंमौजूदसांसदोंकेमुताबिकओलीनेकहाकिवहसंसदभंगकरनेकानिर्णयलेनेकेलिएबाध्यहोगयेथेक्योंकिउन्हेंपार्टीकेअंदर“हाशिये”परपहुंचादियागयाथाऔरराष्ट्रीयएवंअंतरराष्ट्रीयशक्तियोंकेसाथसाठगांठकरकेउनकेखिलाफ“साजिशें”रचीगयीथी।प्रधानमंत्रीनेकहाकिउन्हेंराष्ट्रपतिविद्यादेवीभंडारीपरमहाभियोगचलानेऔरसंसदमेंउनकेविरूद्धअविश्वासप्रस्तावलानेकीयोजनाकापताचलाथाजिसकेबादवहसंसदभंगकरनेकेलियेबाध्यहुए।ओलीनेसांसदोंसेकहा,‘‘हमेंलोगोंसेमाफीमांगनीहोगीऔरनयेचुनावकीदिशामेंबढ़नाहोगाक्योंकिहमनेजोवादाकियाथा,उन्हेंहमपूरानहींकरपाये।’’ओलीअपनेकदमपरसफाईदेनेकेलिएसोमवारकोराष्ट्रकोसंबोधितकरनेवालेहैं।