नीतीश कुमार ने खोज निकाले 3,000 साल पुराने अवशेष!

पटनाबिहारकेमुख्यमंत्रीनीतीशकुमारनेशेखपुराजिलेकेजिसगांवमेंएकस्तूपकीखोजकीथी,वहांसे1,000ईसापूर्वयानीकरीब3,000सालपुरानेअवशेषमिलेहैं।इनअवशेषोंमेंमिट्टीकेपात्रयाबर्तनहैं,जिनकेबहुतपुरातात्विकमहत्वहैं।के.पी.जायसवालरिसर्चइंस्टिट्यूटकेकार्यकारीनिदेशकबिजॉयकुमारचौधरीनेसोमवारकोकहा,'हमनेरविवारकोउसजगहकादौराकिया,जहांकईअवशेषोंकोदेखकरहमकाफीरोमांचितहुए।येअवशेषउनकेपुरातनअस्तित्वकासंकेतदेतेहैं।पुरातत्वविदोंकोवहांबुद्ध,भगवानविष्णुऔरकुछदेवी-देवताओंकीखंडितमूर्तियांमिलीहैं।'राज्यसरकारकीओरसेसंचालितयहसंस्थानपटनासंग्रहालयभवनमेंस्थितहै,जोइतिहासएवंपुरातत्वकेक्षेत्रमेंअनुसंधानकरताहै।नवपाषाणकालकीकलाकृतिचौधरीनेबताया,'कालेऔरलालरंगमेंवस्तुओंकेअवशेषकरीब1,000ईसापूर्वकेदिखतेहैं।हमेंकुछनक्काशीदारकलाकृतिवालीलालरंगकीवस्तुएंभीमिलींजोसंभवत:नवपाषाणकालकीहोसकतीहैं।'चीफसेक्रटरीअंजनीकुमारसिंहसेफोनपरनिर्देशमिलनेकेबादपुरातत्वविदोंकाएकदलशुरुआतीखोजकेलिएअरियारीखंडस्थितफारपरगांवरवानाहुआ।खंडितमूर्तियांमिलीथींगौरतलबहैकिमुख्यमंत्रीनीतीशकुमारराज्यसरकारकेविकासकार्योंकाजायजालेनेकेलिएअपनीविकाससमीक्षायात्राकेतहतशुक्रवारकोगांवकीयात्रापरथे।इसदौरानचीफसेक्रटरीभीउनकेसाथथे।नीतीशकीनजरजबइसस्तूपपरपड़ी,तबउन्होंनेपायायहतोकोईऐतिहासिकएवंपुरातात्विकमहत्ववालास्थानप्रतीतहोताहै।इसकेबादहीमुख्यसचिवनेचौधरीकोफोनकियाथा।यहगांवराज्यकीराजधानीपटनासेकरीब120किलोमीटरकीदूरीपरस्थितहै।चौधरीनेबतायाइससेपहलेभीजबहमारासंस्थानराज्यव्यापीखोजचलारहाथातबभीगांवमेंकुछखंडितमूर्तियांमिलीथीं।लेकिनउसवक्तयहस्तूपहमारीनजरोंसेछूटगयाथा।शुरुआतीखोजमेंइसस्थानकापुरातात्विकमहत्वसाबितहुआहै।अबहमारीयोजनावहांव्यापकखोजकरनेकीहैजिससेसंभवत:वहांऔरभीप्राचीनकलाकृतियांमिलेंऔरलोगोंकीनजरोंसेअबतकअनजानरहेइसजगहकेऐतिहासिकमहत्वपरप्रकाशपड़े।नीतीशकुमारकोपुरातत्वमेंउनकीरुचिकेलिएजानाजाताहै।वर्ष2016मेंनालंदाविश्वविद्यालयकोयूनेस्कोसेविश्वऐतिहासिकधरोहरस्थलकादर्जामिलनेकेबादनीतीशअबराजगीरकीविशालदीवारकोभीइसीतरहकादर्जादिलानेकेलिएप्रयासरतहैं।