नवादा में बैंक लुटेरों का पता लगाने में जुटी हैं दस टीमें, लेकिन 72 घंटे बाद भी खाली हाथ है पुलिस

संसू,नारदीगंज(नवादा)।नारदीगंजथानाक्षेत्रकेबस्तीबिगहाबाजारमेंदक्षिणबिहारग्रामीणबैंकमेंहुईलूटकीघटनाको72घंटेसेअधिकबीतचुकेहैं।पुलिसइसमामलेमेंअबतकखालीहाथहै।इतनेसमयकेबावजूदअपराधियोंकासुरागनहींमिलनापुलिसकेखुफियातंत्रपरसवालखड़ेकरताहै।मालूमहोकिबीतेदिनोंराज्‍यकेकईअन्‍यजिलेमेंभीबैंकलूटकीघटनाएंहुईहैं।

वैज्ञानिकतरीकेसेजांचमेंजुटीहैपुलिस

दसअलग-अलगटीमोंकोघटनाकापर्दाफाशकरनेमेंलगायागयाहै।वैज्ञानिकतरीकेसेभीजांच-पड़तालकीजारहीहै।डीआइयूकीटीमतकनीकीस्तरपरअपराधियोंकासुरागलेनेमेंलगीहै।महकमेकीअन्यटीमेंसीसीटीवीफुटेजऔरबैंकअधिकारियोंकेबताएगएहुलियाकेआधारपरअपराधियोंकीटोहमेंलगीहै। एसपीधूरतसयालीसावलारामखुदपूरेमामलेपरनजरबनाएहुईहैं।लेकिनपुलिसअबतकबैकफुटपरनजरआरहीहै।पिछलेकुछवर्षोंसेथानोंकीपुलिसपूरीतरहडीआइयूपरआश्रितहोगईहै।तकनीकीऔरवैज्ञानिकजांचपरआश्रितहोजानेकेचलतेपुलिसकामानवीयसूत्रकमजोरपड़चुकाहै।

सवालोंकेघेरेमेंबैंकोंकीसुरक्षा

राज्‍यमेंबैंकलूटकीघटनाएंसमय-समयपरहोरहीहैं।तमामसुरक्षाकेदावोंकेबावजूदअपराधीअपनाकामकरजातेहैं।वैसेनवादाजिलेमेंकईवर्षोंकेबादबैंकलूटकीवारदातहुईहै।लेकिनइसघटनाकेबादनिश्चितरूपसेबैंकोंकीसुरक्षाकोलेकरसवालखड़ेहोनेलगेहैं।पुलिसियादावोंकीपोलखुलगईहै।वैसेबड़े-बड़ेबैंकोंमेंसुरक्षाकेइंतजामहै।सुरक्षाप्रहरीकीप्रतिनियुक्तिहै।लेकिनअधिकांशबैंकोंमेंएक-दोगार्डोंपरहीसुरक्षाकादारोमदारहै।इसमामलेमेंएसडीपीओकाकहनाहैकिपुलिससघनजांच-पड़तालमेंलगीहुईहै।अपराधियोंकोजल्‍दपकड़ाजाएगा।फिलहालअभीकोईसफलतानहींमिलसकीहै।इधरशनिवारकोबैंकमेंसामान्‍यढंगसेकामकाजहुआ।शाखाप्रबंधकमनेंद्रकुमारनेकहाकिग्राहकोंकाकामनिबटायाजारहाहै।