ओबीसी वर्ग की उन जातियों तक भी भाजपा पहुंचेगी, जिनकी संख्या अभी कम है, इन्हें भी प्रतिनिधित्व देने के लिए बन रही रणनीति

भाजपाकीतीनदिनकीचिंतनबैठककेबादअबफोकसओबीसीवर्गकीउनजातियोंपरहोगा,जिनकीसंख्याकमहै,लेकिनप्रदेशकेअलग-अलगहिस्सोंमेंनिर्णायकस्थितिमेंहैं।भाजपाकेनेताइन्हेंजोड़ेंगे।आनेवालेसमयमेंइनवर्गोंकोभीप्रतिनिधित्वदियाजाएगा।चिंतनबैठकमेंजिनलोगोंकोशामिलकियागयाथा,उसकाफॉर्मूलाभीयहीथा।बैठकमेंजोबिंदुतयकिएगएहैं,उससेआनेवालेसमयमेंभाजपाकीराजनीतिऔररणनीतिमेंबड़ापरिवर्तनदिखाईदेगा।विधानसभाचुनावकेदौरानभीबड़ीसंख्यामेंनएचेहरेदिखाईदेंगे।

हालांकिअभीपूरीबैठकमुद्दोंऔररणनीतिपरकेंद्रितथी।आदिवासीबहुलबस्तरमेंहुईभाजपाकीचिंतनबैठकमेंसिर्फआदिवासीवर्गकेलिएआरक्षित29सीटेंनहींथीं।बल्किसमाजकेउनवर्गोंपरफोकसकियागया,जिनकीसंख्याकमहोनेकीवजहसेप्रतिनिधित्वनहींमिलपाताथा।सोशलइंजीनियरिंगकोध्यानमेंरखकरहीएकपूरासत्रथा,जिसमेंयेबातेंआईंकिकुर्मीयासाहूसमाजमेंहीकईअलग-अलगविंगहैं।इसीतरहऔरभीजातियांहैं,जोओबीसीवर्गकेअंतर्गतहैं,लेकिनबड़ीजिम्मेदारियोंमेंनहींआसकतीहैं।चिंतनबैठकमेंजिनलोगोंकोबुलायागयाथा,उनमेंएसटी-एससीवर्गकेप्रतिनिधियोंकेसाथकुर्मीऔरसाहूकेसाथअघरिया,यादव,जायसवाल,ब्राह्मणऔरक्षत्रियभीथे।इन्हेंसाधनेकेलिएभाजपाआनेवालेसमयमेंव्यक्तिगतसंपर्ककेसाथ-साथसम्मेलनकीकरेगी।व्यापारीवर्गकीपार्टीकेआरोपोंकेकारणहीकुछनेताओंकोबैठकमेंनहींबुलायागयाहै।इनसबसमीकरणोंकोध्यानमेंरखकरशॉर्टऔरलांगटर्मकीरणनीतिबनाईगईहै।

कोईभीआंदोलनतबतकबंदनहींहोगा,जबतकपरिणामनआजाए

बैठकमेंइसबातपरचिंताजताईगईकिअबतकजनहितसेजुड़ेमुद्दोंपरभाजपाकीलड़ाईधरना-प्रदर्शनतकसीमितथी।यानीदो-तीनघंटेमेंप्रदर्शनसमाप्तहोजाताथा।अबइसलड़ाईकोपरिणाममूलकबनानेपरबातहुईहै।यानीखादऔरपानीकीकमीकोलेकरजबआंदोलनहोगा,तोजबतकसमस्याहलनहींहोगी,आंदोलनजारीरखेंगे।पहलेचरणमेंखादकीकमीऔरबारिशनहींहोनेसेकिसानोंकेसामनेमेंपानीकीसमस्या,बिजलीकीकटौतीकोलेकरहीआंदोलनकियाजाएगा।इसकेबादघोषणापत्रकेअलग-अलगमुद्दोंमसलनबेरोजगारीभत्ता,दोसालकाबकायाबोनस,शराबबंदी,महिलास्वसहायतासमूहोंकीकर्जमाफीकोलेकरआंदोलनकियाजाएगा।

15सालमेंभाजपानेअच्छाकामकिया,परपरसेप्शनबिगड़ा:संतोष

राष्ट्रीयसंगठनमहामंत्रीबीएलसंतोष15सालकीसरकारऔरढाईसालकीएक्टिविटीकीरिपोर्टलेकरपहुंचेथे।उन्होंनेकहाकि15सालमेंभाजपानेकाफीअच्छाकामकिया,लेकिनलोगोंकेबीचपरसेप्शनबनानेमेंकमजोरसाबितहुए।कांग्रेससरकारढाईसालमेंविकासकेकामनहींकरपाई,लेकिनपरसेप्शनबनानेमेंकामयाबरही।अबलोगविकासकार्यनहींहोनेकीबातकरनेलगेहैं।उन्होंनेसांसदोंवविधायकोंकीभूमिकापरकाफीसख्तसंदेशदिया।सांसद-विधायकोंकोसमाजकेबीचऔरज्यादाजुड़करकामकरनेकीनसीहतदी।उन्होंनेयहांतककहाकिमीडियाआजभीउन्हेंबराबरमहत्वदेरहीहै।सत्तापक्षकोभलेहीज्यादास्पेसमिलरहाहो,लेकिनभाजपाकोकमजोरनहींकियागयाहै।

छत्तीसगढ़मेंओबीसीवर्गकी95जातियां,अभीऐसाहैसमीकरण

राज्यसरकारद्वारापिछलेसालओबीसीवर्गकीजोसूचीजारीकीगईथी,उसमें95जातियोंकोशामिलकियागयाथा।इनमेंमुख्यरूपसेयादव,केंवट,चौरसिया,निर्मलकर,धनगर,देवांगन,मौर्य,कसार,कुर्मी,कलार,श्रीवास,साहू,बैरागी,विश्वकर्मा,हलवाई,राजगीर,गोस्वामी,सोनी,कुम्हार,पनका,लोधी,रौतिया,कोटवार,तंवर,रजवार,अघरिया,तूरी,राजभरआदिशामिलहैं।विधानसभावारदेखेंतोप्रदेशकीआधीसीटोंपरसबसेज्यादाप्रभावओबीसीकाहै।47प्रतिशतआबादीओबीसीहै,इसलिएएकचौथाईविधायकइसीवर्गसेआतेहैं।कुल90विधानसभासीटोंमेंसे39रिजर्वहैं।वहींआदिवासीसीटोंकीबातकरेंतो29सीटआरक्षितहैं।

हरमुद्देपरसभीसेखुलकरबातहुई

चिंतनबैठकमें2018केचुनावमेंपिछड़नेकेकारणोंसेलेकरआनेवालीरणनीतिपरखुलकरबातहुईहै।सभीसदस्योंनेसकारात्मकढंगसेकमजोरियोंकेसाथउसेदूरकरनेकेकारणोंपरसुझावदिया।भाजपासभीवर्गोंकोसाथलेकरविकासकेमुद्देपरकामकरेगी।शॉर्टऔरलांगटर्मरणनीतिबनाईगईहै।जल्दहीइनमुद्दोंकोलागूकियाजाएगा।भाजपानएचेहरोंपररिसर्चकररहीहै।

-विष्णुदेवसाय,प्रदेशअध्यक्षभाजपा