पौधरोपण की खानापूर्ति में घटता वन क्षेत्र, 6.80 फीसद जमीन से आगे नहीं बढ़ पा रही हरियाली

चंडीगढ़[सुधीरतंवर]।तमामप्रयासोंकेबावजूदहरियाणामेंवनक्षेत्रबढ़नेकानामनहींलेरहा।पिछलेवर्षोंमेंहरसालदोसेढाईकरोड़पौधेरोपितकरनेकेदावेकिएजातेरहेहैं,लेकिनहकीकतमेंधरातलपरतस्वीरज्यादानहींबदलीहै।देखभालकेअभावमेंहरसाललगाएजारहेआधेसेअधिकपौधेसूखजारहेहैं।

प्रदेशमेंकरीब6.80फीसदजमीनपरहीवनक्षेत्रहै,जबकिडेढ़दशकपहलेतकयह10फीसदहुआकरताथा।राष्ट्रीयवननीतिकेअनुसारप्रदेशमेंकुलभौगोलिकक्षेत्रके20फीसदभागपरवनहोनाचाहिए।इसकेउलटप्रदेशमेंवनआवरण1608वर्गकिलोमीटरहैजोराज्यकेभौगोलिकक्षेत्रका3.64फीसदहै।वृक्षआवरन1395वर्गकिलोमीटरहैजोभौगोलिकक्षेत्रका3.16फीसदहै।

वर्ष2011में1608वर्गकिलोमीटरवनक्षेत्रथा,जोदोसालबाद1586औरफिर2015में1584वर्गकिमीरहगया।प्रदेशकावृक्षआवरणक्षेत्रवर्ष2011में1395वर्गकिमीथाजोवर्ष2013मेंघटकर1282वर्गकिमीतकसिमटगया।राहतकीबातयहकिसभीजिलोंमेंसिटीफॉरेस्टविकसितकरहरियालीबढ़ानेकेलिएमास्टरप्लानपरकामशुरूहोचुकाहै।

रेलवेकीजमीनपरपौधरोपणकेलिएरेलमंत्रालयसेसमझौताकियागयाहै,जबकिहरशहरसेगुजरतीसड़कोंकेकिनारेभीपेड़-पौधेलगानेकीमुहिमछेड़ीगईहै।पतंजलिअनुसंधानसंस्थानकेसहयोगसेमोरनीमें17हजारएकड़जमीनपरविश्वहर्बलवनस्थापितहोनेसेस्थितिमेंबदलावहोगा।पौधगीरीयोजनाकेतहतपिछलेसालछठीसेबारहवींतकके26लाखछात्रोंनेपौधारोपणकियाथा।

विकासपरियोजनाओंकीभेंटचढ़ीहरियाली

विकासपरियोजनाओं,शहरीकरण,सड़कोंकोचौड़ाकरनेवरेलमार्गकोदोहराकरनेसेवनक्षेत्रमेंकमीआईहै।इससेनिपटनेकेलिएकेवलउन्हींपेड़ोंकोकाटाजानाचाहिएजोबहुतजरूरीहो।गांववशहरोंमेंसरकारी,पंचायतीयाअन्यखालीपड़ीभूमिपरपौधारोपणकरनेकेलिएवनविभागकेसाथहीपंचायतों,विभागों,संस्थाओंऔरसामाजिकसंस्थानोंकोभीआगेआनाहोगा।

देशजप्रजातियोंकोकरेंगेप्रोत्साहित:गुर्जर

वनमंत्रीकंवरपालगुर्जरकाकहनाहैकि सरकारदेशजप्रजातियोंकेपौधोंकोप्रोत्साहितकरेगी।लोगोंकोप्रकृतिसेजोडऩेकेलिएहमनेपौधरोपणकाविशेषअभियानछेड़ाहै।अरावलीकोहरा-भराकरनेकेलिएहवाईमार्गसेबीजडालेजाएंगे।काबलीकीकरकोहटाकररोहिड़ाकाबीजारोपणकियाजाएगा।