Punjab Election 2022: कभी कांग्रेस की धाक...कभी अकाली ने बनाई साख, 2 पार्टियों के बीच सिमटा रहा पंजाब का सियासी इतिहास

PunjabAssemblyElection2022:सियासीवारऔरमंझेहुएराजनेताओंसेसजीपंजाबकीसियासतनयाइतिहासरचनेकीओरबढ़रहीहै.एकअनोखीराजनीतिकविरासतसमेटनेवालेपंजाबकेलिएइसबारकाचुनावबेहदखासहैं.किसानआंदोलननेदेशमेंउत्तर-पश्चिमीछोरपरमौजूदपंजाबकीसियासतकेरंगकोकाफीहदतकबदलकररखदियाहै.पूरेसालआंदोलनऔरकांग्रेसपार्टीमेंमचीरहीसियासीउठापटककेचलतेपूरेसालराज्यकीराजनीतिचर्चाकीवजहबनीरहीहै.ऐसेमेंसबसेज्यादारोचकमानेजानेवालेयूपीकेचुनावोंकेबादपंजाबकाचुनावभीबेहदखासहोनेवालाहै.

पंजाबकीसियासतमेंपिछलेविधानसभाचुनावमेंAAPनेइतिहासरचतेहुएएकअहमउपलब्धिहासिलकीथी.येउपलब्धिथीकिसीबाहरीपार्टीकेपंजाबमेंअपनाअस्तित्वकायमकरनेकी.पंजाबकाअबतककाचुनावीइतिहासकुछऐसारहाहैकियहांकेवोटर्सनेदोहीपार्टीकोसिर-माथेपरजगहदीहैऔरवोअकालीदलऔरकांग्रेसहै.अकालीदलकेइतनेसालोंसेबीजेपीकेसाथगठबंधनकेचलतेपंजाबकीराजनीतिमेंबीजेपीकीएंट्रीभलेहोगईथी,लेकिनइसगठबंधनमेंअकालीदलहीअहमजगहबनाएहुएथा.

येभीपढ़ें-UPElections:यूपीमेंब्राह्मणवोटोंनेउड़ारखीहैBJPकीनींद,क्याइसलिएटेनीकोझेलरहीहैपार्टी?

शुरुआतसेदोपार्टियोंकारहादखल

आजादीकेबादकेराजनीतिकइतिहासपरनजरडालेंतोभरपूरजलस्रोतोंऔरउपजाउमिट्टीवालेराज्यमेंशुरुआतसेहीदोपार्टियोंनेअपनादखलरखाहै.इतिहासकेपन्नोंसेधूलहटाएंतोदावाकियाजाताहैकिसिंधुघाटीसभ्यताकाउदयभीइसीधरतीपरहुआ.पंजाबकीविधानसभामें117सीटेंहैं.यहांकीवर्तमानसाक्षरतादर77फीसदीकेकरीबहै.राज्यमेंसिखआबादीकुलजनसंख्याका60फीसदीहै.राज्यकेसिखसमुदायमेंजाटसिखोंकीसंख्याज्यादाहै.पंजाबकीजनसंख्यामेंकरीब20फीसदीहिस्सादूसरेराज्योंसेपलायनकरकेआईहै.ऐसेमेंराज्यकीराजनीतिमेंसिखोंकादखलज्यादाहै.

पंजाब,क्षेत्रफलकीदृष्टिसेएकछोटाराज्यहैऔरयहांएकसदनीयविधायिकाहै.पहलीविधानसभाकीअंतरिमसरकारसेलेकरपहलीदूसरीऔरतीसरीविधानसभामेंकांग्रेसकाहीवर्चस्वरहा.इसदौरानकांग्रेसराज्यकीसत्तामेंरही.20मार्च1967कोचुनीगईचौथीविधानसभामेंराज्यकीसत्ताअकालीदलकेपासचलीगई.इसीविधानसभाकेदौरान'पंजाबजनतापार्टी'कोभीसत्ताकास्वादचखनेकामौकामिला.

13मार्च1969कोगठितहुईपांचवींविधानसभामेंएकबारफिरअकालीदलसत्तापरकाबिजहुई.पांचवींविधानसभामेंदोमुख्यमंत्रीरहे,जिसमेंगुरनामसिंहऔरप्रकाशसिंहबादल.यहीवोवक्तथाजबप्रकाशसिंहबादपहलीबारराज्यकेमुख्यमंत्रीबने.छठवींविधानसभामेंफिरकांग्रेसनेबाजीमारीऔरसत्तामेंपहुंची.21मार्च1972कोचुनीगईसरकारमेंकांग्रेसनेजैलसिंहकोमुख्यमंत्रीकीकुर्सीसौंपी.30जून1977केचुनावोंमेंफिरअकालीदलकीवापसीसत्तामेंहुईऔरसातवींविधानसभामेंप्रकाशसिंहबादलकोएकबारफिरमुख्यमंत्रीबननेकामौकामिला.हालांकिसरकारनेअपनापांचसालकाकार्यकालपूरानहींकिया.

येभीपढ़ें-ManipurElection2022:मणिपुरचुनावमेंAFSPAकोलेकरसियासीशोर,क्याचुनावीमुद्दाबनेगास्पेशलएक्ट?

23जून1980कोफिरविधानसभाचुनावहुएऔरकांग्रेसको8वींविधानसभामेंसत्ताहासिलहुई.कांग्रेसनेदरबारासिंहकोसीएमबनाया.नौंवींविधासभा,जो14अक्टूबर1985कोगठितहुई,इसमेंशिरोमणिदलसत्ताकेशीर्षपरपहुंची.अकालीदलनेअबसुरजीतसिंहबरनालाकोराज्यकामुख्यमंत्रीघोषितकिया.10वींविधानसभामेंराज्यनेतीनमुख्यमंत्रीदेखे.16मार्च1992कोगठितहुईविधानसभामेंबेअंतसिंह,हरचरणसिंहबरार,राजेंद्रकौरभट्टलकोसीएमकीकुर्सीपरबैठनेकामौकामिला.कांग्रेसइसदौरानराज्यकीसत्तामेंरही.

3मार्च1997केचुनावोंमेंगठितविधानसभामेंएकबारफिरशिरोमणिअकालीदलकोसत्तामिली.प्रकाशसिंहबादलएकबारफिरराज्यकेमुख्यमंत्रीबने.21मार्च2002कोगठित12वींविधानसभामेंकांग्रेसकोसत्ताहासिलहुईऔरपहलीबारअमरिंदरसिंहसीएमबने.अमरिंदरसिंहनेपूरेपांचसालसरकारचलाई.13वींविधानसभा1मार्च2007कोबनींऔरप्रकाशसिंहबादलकोमुख्यमंत्रीबननेकामौकामिला.साल2012मेंलगातारदूसरीबारशिरोमणिअकालीदलसत्तामेंआईऔरप्रकाशसिंहबादलहीराज्यकेमुख्यमंत्रीबने.15वींविधानसभानेराज्यमेंदोमुख्यमंत्रीयोंकोकांग्रेसकीसरकारमेंदेखा.24मार्च2017कोअमरिंदरसिंहकोमुख्यमंत्रीबनायागयाऔरफिरचरणजीतसिंहचन्नीकोहालहीमेंअमरिंदरसिंहकेइस्तीफेकेबादसत्ताकीकुर्सीपरबैठनेकामौकामिला.

पंजाबविधानसभाकीइसवक्तकीस्थिति

117सीटोंवालीविधानसभामेंइसवक्तकांग्रेसके77विधायकहैं.वहींदूसरेनंबरपरआमआदमीपार्टीके14विधायकसदनमेंहैं.शिरोमणिअकालीदलकेइसवक्त13जबकिभारतीयजनतापार्टीके5विधायकहैं.एलआईपी2केपीएलसीकाएकविधायकहै.पांचसीटेंविधानसभामेंइसवक्तखालीहैं.

विधानसभाचुनावकासमीकरण

पंजाबकाचुनावबेहदरोचकहोगयाहै.पिछलेविधानसभाचुनावोंमें14विधायकोंकीजीतकेबादपार्टीराज्यकेदूसरेसबसेबड़ेदलकेरूपमेंउभरीऔरउसनेमुख्यविपक्षीदलकेरूपमेंसदनमेंजगहबनाई.हालांकिपिछलीबारकेविधानसभाचुनावोंमेंटीएमसीनेपंजाबकीजयजवानजयकिसानपार्टीकेसाथगठबंधनकरचुनावलड़ा,लेकिनउसेजीतहासिलनहींहुई.यूपीमेंसत्तामेंरहचुकीसमाजवादीपार्टीऔरबहुजनसमाजपार्टीनेभीराज्यमेंकदमबढ़ाए,लेकिनदोनोंहीपार्टियोंकोराज्यमेंकामयाबीनहींमिली.

इसबारक्याहैखास

इसबारकेचुनावइसलिएभीरोचकहै,क्योंकिशिरोमणिअकालीदलबिनाबीजेपीकेगठबंधनकेचुनावमैदानमेंहै.अकालीदलनेदलितवोटभुनानेकेलिएबहुजनसमाजपार्टीसेगठबंधनकियाहै.बीजेपीपूर्वसीएमकैप्टनअमरिंदरसिंहकीनईगठितपार्टीकेसाथगठबंधनकरकेचुनावमैदानमेंहै.आमआदमीपार्टीनेभीमुख्यविपक्षीपार्टीबननेकेबादपूरीताकतपंजाबचुनावमेंझोंकदीहै.आपकॉन्फिडेंसमेंहैऔरपंजाबमेंकोईनयाइतिहासरचनेकीकोशिशमेंहै.वहींकैप्टनअमरिंदरसिंहकेलिएभीसवालअस्तित्वकाहै.वोराजनीतिकेपुरानेमंझेहुएखिलाड़ीहैंऔरएकराष्ट्रीयपार्टीकेसाथगठबंधनकरचुनावलड़रहेहैं.ऐसेमेंउन्हेंऔरबीजेपीकेलिएइसबारकाचुनावबेहदअहमहैं.