राम मंदिर की लड़ाई हमारी अस्मिता से जुड़ा था

अंबेडकरनगर:श्रीरामजन्मभूमितीर्थट्रस्टअयोध्याकेमहासचिवचंपतरायनेकहाकिराममंदिरकीलड़ाईहमारीअस्मितासेजुड़ाविषयथा।जिसेहिदूसमाजनेस्वीकारकरअंजामतकपहुचाया।आजपूरीदुनियामेंहिदूसमाजअपनेआपकोगौरवान्वितमहसूसकररहाहै।वहशुक्रवारकोजिलामुख्यालयस्थितसरस्वतीशिशुमंदिरमेंविश्वहिदूपरिषदकेतत्वावधानमेंआयोजितधर्मरक्षानिधिअर्पणकार्यक्रममेंबोलरहेथे।

कार्यक्रममेंविश्वहिदूपरिषदकेअंतरराष्ट्रीयउपाध्यक्षचंपतरायनेकहाकिहमारीसोचहोनीचाहिएकिजबदेशहमेंसबकुछदेताहैतोहमभीउसेकुछदेनासीखें।इसभावकेसाथसंगठनकेकार्यकर्ताओंकोकामकरनाचाहिए।उन्होंनेबतायाकिमंदिरनिर्माणकेलिए11करोड़घरोंमेंसंपर्ककियाजाएगा।हिदूएकताकेसंदर्भमेंउन्होंनेकश्मीरकाहवालादेतेकहाकिअमरनाथगुफाकेदर्शनकेलिएसबसेपहलेपांचलोगगएथे,जिसेउपद्रवियोंनेभगादिया।लेकिनइसकेबादपांचहजार,50हजारसेआजपांचलाखहिदूजारहेहैं।एकतामेंताकतहोतीहैइसलिएसभीएकजुटरहें।कार्यक्रमकासंचालनकररहेश्यामबाबूनेकहाकिआजहमसबनेइससमर्पणनिधिअर्पणकार्यक्रमकेमाध्यमसेअपनीकमाईकाजोहिस्सासमर्पितकिया,वहसार्थकहुआ।क्योंकियहराशिएकपुनीतकार्यमेंलगनेजारहीहै।इसमौकेपरहिमांशुगुप्त,विश्वहिदूपरिषदकेजिलाध्यक्षप्रदीपपांडेय,आलोकचौरसिया,रामआशीषमिश्र,ओमप्रकाशसिंह,रोहितगौड़,भवरसिंहचौहान,दीपूजायसवाल,सतीशमोदनवाल,नीरजअग्रहरि,प्रिसपाठक,अतुलमिश्र,राजनअग्रहरि,राजेशपाठकआदिमौजूदरहे।