सादगी और ईमानदारी के प्रतीक थे गांधी व शास्त्री, जयंती पर किए गए याद

लखीसराय।सत्यऔरअहिसाकेपुजारीराष्ट्रपितामहात्मागांधीऔरसादगीकेप्रतिपूर्तिदेशकेपूर्वप्रधानमंत्रीलालबहादुरशास्त्रीकोउनकीजयंतीपरशनिवारकोश्रद्धापूर्वकयादकियागया।जिलाअंतर्गतसरकारीऔरनिजीविद्यालयोंऔरसामाजिकसंगठनोंनेगांधीऔरशास्त्रीकीजयंतीसमारोहपूर्वकमनाई।इसमौकेपरदोनोंमहापुरुषोंकीतस्वीरपरचित्रपरपुष्पअर्पितकरछात्रऔरशिक्षकोंनेउन्हेंनमनकिया।विद्यालयकेछात्रोंनेबापूकेभजनरघुपतिराघवराजाराम..गाकरउन्हेंयादकिया।मुख्यालयस्थितप्रसिद्धआवासीयनारीशिक्षणसंस्थानबालिकाविद्यापीठमेंप्राचार्यशैलेंद्रकुमारकेनेतृत्वमेंशिक्षकोंऔरछात्रोंनेमहात्मागांधीऔरलालबहादुरशास्त्रीकीचित्रपरपुष्पांजलिअर्पितकी।शहरकेबड़ीपोखरपुरानीबाजारमेंप्रज्ञालयमस्थितप्रज्ञाविद्याविहारविद्यालयमेंगांधीऔरशास्त्रीकीजयंतीहर्षोल्लासकेसाथमनाईगई।विद्यालयकेनिदेशकरंजनकुमारएवंशिक्षक,शिक्षिकाओंछात्रोंनेगांधीजीऔरशास्त्रीजीकेचित्रपरपुष्पांजलिअर्पितकी।बच्चोंकेबीचटाफीकावितरणकिया।कार्यक्रममेंशिक्षकगौतमकुमार,बमबमकुमार,मयंककुमार,नरेंद्रप्रसादसिंह,अमितकुमार,सुजीतकुमार,अभिषेककुमार,जितेंद्रकुमार,राकेशकुमार,शैलेंद्रकुमारसुमन,रामप्रवेशसिंह,रामजीसिंह,सरिताकुमारी,विभाकुमारी,अनिताकुमारी,ममताकुमारी,शैलजाकुमारी,श्वेताकुमारी,नेहागोस्वामी,अंशुकुमारी,प्रीतिकुमारी,ममतापांडेय,काजलकुमारी,चांदनीकुमारी,सीमाकुमारीआदिउपस्थितथे।पश्चिमकार्यानंदनगरस्थितकिडश्रीस्कूलमेंचंदनकुमारएवंअमितकुमारकीसंयुक्तदेखरेखएवंनिदेशकराजीवकुमाररत्नेशकेनिर्देशनमेंगांधीऔरबापूकोशिक्षकोंएवंछात्रोंनेयादकिया।इसअवसरपरबच्चोंनेमहात्मागांधीएवंलालबहादुरशास्त्रीकीरूपसज्जामेंझांकीनिकालीजोआकर्षणकेकेंद्ररहे।इसमौकेपरशिक्षिकापूजाकुमारभीमौजूदथी।

कांग्रेसनेकियाबापूवशास्त्रीकोयाद

कांग्रेसकार्यालयचितरंजनआश्रममेंपार्टीकेप्रभारीअध्यक्षअरविदकुमारकीअध्यक्षतामेंबापूऔरशास्त्रीकीतस्वीरपरकांग्रेसजनोंनेपुष्पअर्पितकरकेउन्हेंयादकिया।इसअवसरपरपार्टीकार्यकर्ताओंनेबापूकेप्रियभजनरघुपतिराघवराजारामकागायनभीकिया।इसअवसरपरयुवाकांग्रेसकेजिलाध्यक्षप्रभातकुमारकेअलावाउपाध्यक्षउचितयादव,मनोरंजनकुमारपप्पू,मधेश्वरप्रसादसिंह,सुबिदकुमारशर्मा,संजीवसिंह,नरेशप्रसादसिंह,युवाकांग्रेसकेमहासचिवविपिनयादव,ज्ञानगौरवसिंह,संजयकुमारसिंह,आलोककुमार,चुन्नूसिंह,कौशलयादव,प्रमोदयादव,महेशप्रसादसिंह,सोनूकुमारआदिनेदोनोंमहापुरुषोंकेव्यक्तित्वऔरकृतित्वपरचर्चाकी।