संस्कृत की सहायता से होगी संस्कृति की रक्षा

दरभंगा।सीएमकॉलेजमेंचलरहेदसदिवसीयसंस्कृतसंभाषणशिविरकामंगलवारकोसमापनकियागया।शिविरमेंविश्वविद्यालयसंस्कृतविभागाध्यक्षप्रो.जीवानंदझानेकहाकिसंस्कृतसर्वाधिकप्राचीनसमृद्धएवंवैज्ञानिकभाषाहै,इसकाअध्ययनकरनेसेमानवकासंपूर्णविकासहोताहै।समाजतथासरकारकेसकारात्मकसहयोगसेसंस्कृतकाविकासहोरहाहै।संस्कृतकीसहायतासेहीहमअपनीसंस्कृतिकीरक्षाकरसकतेहैं।सारस्वतअतिथिकेरूपमेंसंस्कृतकेवरीयप्राध्यापकडॉ.जयशंकरझानेकहाकिमेरेलिएखुशीकीबातहैकिसीएमकॉलेजकासंस्कृतविभागसफलसंभाषणशिविरकाआयोजनकियाहै,इसमेंप्रतिभागियोंकेजीवनमेंकईसकारात्मकप्रभावअवश्यआएंगे।संस्कृतभारतकीआत्माहै,इसकेबिनादेशकापूर्णउदयसंभवनहींहै।

विशिष्टअतिथिकेरूपमेंउत्तरप्रदेशउच्चशिक्षाकेविभागकेउपनिदेशकडॉ.अवधेशकुमारझानेकहाकिआजसंस्कृतपठन-पाठनकीव्यापकसुविधाउपलब्धहै।अपनेपरविश्वासरखकरसंकल्पलेनेकीजरूरतहै।मुख्यवक्ताकेरूपमेंसंस्कृतभारतीकेप्रदेशमहामंत्रीडॉ.रमेशझानेकहाकिमनुष्यकोसंस्कारिततथामानवोचितगुणोंसेयुक्तकरनेमेंसंस्कृतकाअत्यधिकयोगदानहै।कार्यक्रमकीअध्यक्षताकरतेहुएमहाविद्यालयकेप्रधानाचार्यप्रो.विश्वनाथझानेकहाकिसंस्कृतसिर्फदेववाणीहीनहींबल्किजनवाणीकीक्षमतारखतीहै।समापनसमारोहमेंडॉ.प्रीतिकनोडिया,प्रो.विकासकुमार,प्रो.संजीवकुमार,डॉ.अभिलाषाकुमारी,प्रो.रागिनीकुमारी,प्रो.अखिलेशकुमारराठौर,अमरजीतकुमार,पूजाकुमारी,जयशंकरझा,संतोषकुमार,जयप्रकाशझा,बालकृष्णकुमारसिंह,प्रणवकुमार,बाबूसाहब,दशरथठाकुर,शिवानीकुमारी,गिरधारीकुमारझा,सपनाकुमारी,सौरभकुमारझा,कृष्णमोहनभगत,विकासकुमारगिरि,लक्ष्मीकुमारी,कुसुमकुमारी,निशुकुमारीनेभागलिया।

शिविरमें80प्रतिभागियोंकोकॉलेजकेसंस्कृतविभागकीओरसेप्रमाणपत्रप्रदानकियागया।शिविरसंचालिकाअंशुकुमारीकेसंचालनमेंआयोजितसमापनसमारोहमेंअतिथियोंकास्वागतशिविरसंयोजकडॉ.संजीतकुमारझानेकिया।धन्यवादज्ञापनसंस्कृतविभागाध्यक्षडॉ.आरएनचौरसियानेकिया।