स्वतंत्रता के 75वें साल में आकर माकपाइयों को तिरंगे को लेकर आई सद्बुद्धि, जानिए पूरी कहानी

कोलकाता,स्टेटब्यूरो।InaFirst,CPI(M)toHoistNationalFlagभारतकोस्वतंत्रतामिलनेकेबादतत्कालीनकम्युनिस्टोंनेनारादियाथा‘यहआजादीझूठीहै।’हालांकिबादमेंअविभाजितभारतीयकम्युनिस्टपार्टी(सीपीआइ)नेगलतीकोस्वीकारलीथी।परंतुइनवामनेताओंकातर्कथाकिजबआर्थिकस्वतंत्रताहीनहींहैतोफिरयहकैसीआजादीहै!परजबवक्तकापहियाघूमातोभारतीयसंविधानऔरलोकतांत्रिकव्यवस्थाकेप्रतिवामनेतृत्वकीआस्थाभीबढ़ीथी।बादमें1964मेंसीपीआइविभाजितहुआऔरभारतीयकम्युनिस्टपार्टी(मार्क्‍सवादी)(माकपा)बनी।इसकेबादमाकपाइयोंनेजनप्रतिनिधित्ववालेलोकतंत्रमेंतोहिस्सालिया,लेकिनकभीभीअपनेपार्टीदफ्तरोंमेंस्वतंत्रताऔरगणतंत्रदिवसपरराष्ट्रीयध्वजनहींफहराया।स्वतंत्रताके75वेंसालमेंआकरमाकपाइयोंकोतिरंगेकोलेकरसद्बुद्धिआईहै।

दरअसलभाजपाकेराष्ट्रवादसेटक्करलेनेकेलिएमाकपाकीकेंद्रीयकमेटीनेइसबार15अगस्तकोदेशभरकेपार्टीकार्यालयोंमेंराष्ट्रीयध्वजफहरानेकानिर्णयलियाहै।अबतकमाकपामानवश्रृंखलासहितअन्यकार्यक्रमआयोजितकरगणतंत्रऔरस्वतंत्रतादिवसमानतीथी,परपार्टीकार्यालयोंमेंतिरंगाझंडानहींफहरायाजाताथा।वहांकम्युनिस्टोंकालालझंडालहराताथा।यहीवजहथीकिपार्टीकेअंदरबार-बारसवालउठायाजाताथाकिक्याअभीतकमाकपाकेलिएयहआजादीझूठीहै?अजादीके75वेंसालसीतारामयेचुरीकीपार्टीनेसोचऔरमानसिकताबदलीहै।कन्नूरमेंहोनेवालीआगामीपार्टीकांग्रेससेपहलेमाकपाकेंद्रीयसमितिकीबैठकमेंइसबारअभूतपूर्वप्रस्तावपारितकरमाकपाकेसभीकार्यालयोंमेंस्वतंत्रतादिवसमनानेऔरराष्ट्रीयध्वजफहरानेकानिर्णयलियागया।यहमाकपाहीनहींवामपंथियोंकेइतिहासमेंपहलीबारहोनेजारहाहै।

आखिरमाकपामेंयहपरिवर्तनइतनेवर्षोकेबादक्योंआयाहै?इसपरकामरेडोंकेतर्कतोअलग-अलगहैं,लेकिनउनकेसारकोसमङोंतोउनकामाननाहैकिजिसतरहसेभाजपानेराष्ट्रवादकेजरियेदेशवासियोंकोप्रभावितकियाहै,उससेमुकाबलेकेलिएरणनीतिमेंपरिवर्तनजरूरीहैऔरइसीनीतिकेतहतयहनिर्णयलियागयाहै।सवालहैकिमाकपाकेविचारवनीतिबदलनेमेंइतनावक्तक्योंलगा?क्योंकि34वर्षोतकबंगालपरराजकरनेवालीमाकपाआजयहांअस्तित्वसंकटसेजूझरहीहै।राष्ट्रवादकोलेकरमाकपानेताऔरक्या-क्याकरतेहैंऔरइसकाउन्हेंकितनाफायदामिला,यहवक्तबताएगा।