'वित्तविहीन शिक्षकों के साथ सरकार कर रही भेदभाव'

जागरणसंवाददाता,उरई:मानदेयनदिएजानेसहितकईसमस्याओंकोलेकरवित्तविहीनशिक्षकोंनेबोर्डपरीक्षाकाबहिष्कारकरकलेक्ट्रेटपरिसरमेंधरनाप्रदर्शनकिया।साथहीमुख्यमंत्रीकेनामसंबोधितज्ञापनसिटीमजिस्ट्रेटकोसौंपकरकहाकिप्रदेशसरकारवित्तविहीनशिक्षकोंकेसाथभेदभावकररहीहै।थोड़ासाजोमानदेयदियाजारहाथावहभीबंदकरदियागया।केंद्रनिर्धारणनीतिमेंभीउपेक्षाकीगईहै।जिसकेचलतेशिक्षकपरीक्षाकाबहिष्कारकरनेकोबाध्यहुएहैं।

मंगलवारकोवित्तविहीनशिक्षकमहासभाकेबैनरतलेबड़ीसंख्यामेंशिक्षककलेक्ट्रेटपहुंचेऔरधरनादिया।इसदौराननारेबाजीभीकीगई।मुख्यमंत्रीकेनामसंबोधितज्ञापनसिटीमजिस्ट्रेटकोसौंपकरसंगठनकेप्रदेशमहासचिवअशोककुमारराठौरनेकहाकिसरकारनेवित्तविहीनशिक्षकोंकेसाथन्यायनहींकियाहै।मानदेयहीबंदकरदियागया।परीक्षाकीएकपालीमेंमात्र36रुपयेदिएजातेहैंवहअत्यंतकमहैइसकेसाथहीकई-कईवर्षतकभुगताननहींहोपाताहै।वित्तविहीनशिक्षकोंकीसुरक्षायुक्तनियमावलीबनाएजानेकाआश्वासनतोदियागयालेकिनअबतकअमलनहींकियागया।माध्यमिकशिक्षामेंबड़ायोगदानदेनेकेबादभीवित्तविहीनविद्यालयोंवउनकेशिक्षकोंकोसंशयकीदृष्टिसेदेखाजाताहै।उन्होंनेकहाकिइसउपेक्षाकोकतईबर्दाश्तनहींकियाजाएगा।वित्तविहीनशिक्षकबोर्डपरीक्षाकीड्यूटीमेंअपनायोगदाननहींदेंगे।अरुणकुमारत्रिपाठी,दीपकपांडेय,दीपकशुक्ला,गजेंद्र¨सह,सुखदेव¨सहपाल,संतोषगोस्वामी,मनोजतिवारी,हरिशरण,रमेश¨सह,देवेंद्रकुमारआदिमौजूदरहे।