WhatsApp ग्रुपों में जुड़कर बेच रहे नकली इंजेक्शन, पुलिस ने इस तरह से खोली इनकी कलई

कानपुर,जेएनएन।ब्लैकफंगसमेंकारगरलाइपोजोनलइंम्फोटोरिसिनबीइंजेक्शनकानकलीमालबाजारमेंउतारनेवालागिरोहWhatsAppग्रुपमेंजुड़करअपनामालबेचरहाहै।चूंकिइसगिरोहमेंमेडिकललाइनसेजुड़ेलोगभीशामिलहैं,इसलिएजल्दीकोईशकभीनहींकरता।पुलिसकीपूछताछमेंसामनेआयाहैकिगिरोहअबतककाफीसंख्यामेंयहइंजेक्शनबाजारमेंउतारचुकाहै।

इसगिरोहकापर्दाफाशकरनेवालेप्रयागराजकेमोतीलालनेहरूमेडिकलकॉलेजकेडॉ.करनङ्क्षसहचौहाननेबतायाकिउनकीबहनकीशादीबनारसमेंहुईहै।बहनकेसुसरविनोदकुमारङ्क्षसहजोकिबनारसक्लबकेडायरेक्टरभीथे,वह19मईकोब्लैकफंगसकेशिकारहोगए।उन्हेंंबनारसकेहेरिटेजअस्पतालमेंभर्तीकरायागया।डॉक्टरोंनेउनकीउम्रववजनकेहिसाबसेलाइपोजोनलइंम्फोटोरिसिनबीकेकमसेकम45इंजेक्शनकाइंतजामकरनेकोकहा।उन्होंनेअपनेमित्रविनीतसेकहा।विनीतकोएकWhatsAppग्रुपसेज्ञानेंद्रकानंबरमिला।उन्होंनेज्ञानेंद्रसेबातकी।चूंकिज्ञानेंद्रखुदएमआरथा,इसलिएउसपरशककरनेकाकोईकारणनहींदिखाईदिया।

हालांकिउन्होंनेइसपरचर्चाजरूरकी।30इंजेक्शनउन्होंनेज्ञानेंद्रसेखरीदा,जबकिअन्यकाइंतजामउन्होंनेदूसरेमाध्यमसेकिया।जबदोनोंइंजेक्शनपरलगेरैपरकामिलानकरायागयातोआंखेंखुलीकीखुलीरहगयी।असलीइंजेक्शनपीलेरंगकाहै,जबकिनकलीकारंगसफेदथा।इसीतरहलोगोंमेंअंतरथा।जोविवरणलिखाहुआथा,उसमेंभीअंतरमिला।डॉ.करनकेमुताबिकनकलीइंजेक्शनकाप्रयोगकरनेकीवजहसेही25मईकोउनकेमरीजकीमृत्युभीहोगई।एसीपीत्रिपुरारीपांडेयनेबतायाकिआरोपितोंसेपूछताछमेंसामनेआयाहैकिउक्तलोगलखनऊसेइंजेक्शनलाएथे।

हाईकोर्टलिखीकारपुलिसनेबरामदकी:नकलीइंजेक्शनबेचनेवालेगिरोहकेपाससेपुलिसनेयूपी32एफजेड0723नंबरकीएकएक्सयूवीकारभीबरामदकीहै।कालेरंगकीइसकारमेंनंबरप्लेटकेऊपरहाईकोर्टलिखाहुआहै।पुलिसकारमालिककेबारेमेंजानकारीजुटारहीहै।वाहननंबरकीजानकारीकरनेवालेएकऐपमेंजबइसनंबरकोडालागयातोजानकारीमिलीकियहगाड़ीकिसीनरेंद्रकुमारकेनामसेलखनऊआरटीओमेंपंजीकृतहै।