यहां रोजाना योग और मेडिटेशन करेंगे पुलिसकर्मी, जानिए क्यों उठाया जा रहा है ये कदम

जागरणसंवाददाता,देहरादून।लंबीड्यूटीऔरअनियमितखानपानकेकारणकईबारपुलिसकर्मीभीमानसिकतनावमेंआजातेहैं।ऐसेमेंकुछपुलिसकर्मीआत्मघातीकदमतकउठालेतेहैं।अगररोजानाउनकेमनमेंसुविचारडालेजाएंऔरउन्हेंतनावमुक्तरखनेकेलिएव्यायामकरायाजाएतोऐसीघटनाएंरोकीजासकतीहैं।इसीकोध्यानमेंरखकरप्रदेशकेपुलिसमहकमेनेहरजिलेमेंपुलिसकर्मियोंकेलिएरोजानायोगऔरमेडिटेशनकरानेकीदिशामेंकदमबढ़ाएहैं।इसकेलिएपुलिसमुख्यालयसेसभीजिलाप्रभारियों(एसएसपी/एसपी)कोव्यवस्थाबनानेकानिर्देशदियाजाचुकाहै।सबयोजनाकेमुताबिकहुआतोजल्दहीयहव्यवस्थाधरातलपरनजरआएगी।

पुलिसमहानिरीक्षक(आइजी)कार्मिकएपीअंशुमाननेबतायाकियहनिर्णयपुलिसमुख्यालयमेंआयोजितअधिकारीसम्मेलनमेंलियागयाथा।इसकेबादसभीजिलोंकीपुलिसकोअनिवार्यरूपसेरोजानायोगऔरमेडिटेशनकीव्यवस्थाबनानेकेलिएआदेशजारीकरदियागयाहै।फिलहाल,हरजिलेकीरिजर्वपुलिसलाइनमेंयोगऔरमेडिटेशनकरायाजाएगा।बादमेंइसव्यवस्थाकोहरथानेतकलेजायाजाएगा।

उन्होंनेबतायाकिकुछजिलोंमेंअधिकारीअपनेकर्मचारियोंकीपरेशानीकोसमझलेतेहैं,लेकिनकईबारकर्मचारियोंकीसमस्याओंकीतरफअधिकारीध्याननहींदेते।ऐसेमेंजवानमानसिकतनावमेंचलेजातेहैं।कुछमामलोंमेंयहस्थितिअकेलेरहनेऔरपारिवारिकसमस्याओंकेकारणआतीहै।इनहालातमेंयोगऔरमेडिटेशनकाफीकारगारसाबितहोताहै।वैसेभीएकजवानकेलिएमानसिकस्वास्थ्यबेहदमहत्वपूर्णविषयहोताहै।इसकाख्यालरखनाशारीरिकस्वास्थ्यकेजितनाहीजरूरीहै।कोईभीव्यक्तिमानसिकस्थितिठीकहोनेपरहीअच्छीतरहसेकामकरसकताहै।

आइजीनेबतायाकिजल्दहीइसकेलिएसभीजिलोंकोएकप्रारूपभेजाजाएगा।पुलिसकर्मियोंकोयोगऔरमेडिटेशनकरानेकेलिएसमाजसेवाकरनेवालीऐसीसंस्थाओंसेसंपर्ककियाजारहाहै,जोनिश्शुल्कयहसुविधाउपलब्धकरातीहैं।

यहभीपढ़ें- कान्क्लेवनेविचारोंकेआदान-प्रदानकोदियामंच,13सेज्यादाआइआइटीऔर160सेअधिकछात्रोंनेकीभागीदारी