यूपीटीईटी पास 21 लाख से अधिक अभ्यर्थियों के लिए बड़ी खुशखबरी, प्रमाणपत्र के आजीवन मान्यता पर फैसला जल्द

प्रयागराज[राज्यब्यूरो]।केंद्रसरकारनेटीईटी(शिक्षकपात्रतापरीक्षा)काप्रमाणपत्रआजीवनमान्यकरदियाहै।यदिउत्तरप्रदेशमेंएनसीटीई(राष्ट्रीयअध्यापकशिक्षापरिषद)काअनुपालनहुआतो21लाखअभ्यर्थियोंकोलाभमिलसकताहै,क्योंकिकेंद्रकीतर्जपरराज्यमेंभीयूपीटीईटीकराईजारहीहैऔरउसमेंअबतक21लाखसेअधिकउत्तीर्णहोचुकेहैं।हालांकिसूबेमेंइसपरीक्षाकाप्रमाणपत्रपांचवर्षकेलिएहीमान्यहै।बेसिकशिक्षाराज्यमंत्रीडॉ.सतीशद्विवेदीनेकहाकिराज्यसरकारइसपरमंथनकररहीहै,इससेपरीक्षाउत्तीर्णकरनेवालेखुशहैं।

उत्तरप्रदेशमेंप्राथमिकस्कूलोंकीशिक्षकभर्तीमेंआवेदनकरनेवालोंकेलिएटीईटीउत्तीर्णहोनाअनिवार्यहै।येप्रमाणपत्रकेंद्रकाहोयाफिरराज्यका।इसकेअलावाबेसिकशिक्षापरिषदकेस्कूलोंकेशिक्षकोंकीपदोन्नतिमेंभीहाईकोर्टनेइसप्रमाणपत्रकोअहमबतायाहै।इसलिएहरवर्षभर्तीवपदोन्नतिकेइच्छुकदावेदारबड़ीसंख्यामेंआवेदनकरतेहैं।वहीं,जिनअभ्यर्थियोंकेप्रमाणपत्रकीवैधतापूरीहोचुकीहैऔरउनकाचयननहींहुआहैवेभीइसपरीक्षामेंप्रतिभागकरतेहैं।प्रदेशमेंयदियूपीटीईटीकाप्रमाणपत्रआजीवनमान्यहोनेसेदावेदारोंकीसंख्यामेंकमीआएगी।

2012मेंइम्तिहाननहीं,2020कीप्रक्रियाकाइंतजार:एनसीटीईकेनिर्देशपरटीईटीकीशुरुआत2011मेंहुईथी,तबसेराज्यमेंभीयेपरीक्षाहोरहीहै।केंद्रसरकारसालमेंदोबार,जबकिप्रदेशमेंएकबारपरीक्षाहोतीरहीहै।केवल2012मेंइम्तिहाननहींहुआऔर2020कीप्रक्रियाशुरूहोनेकाइंतजारकियाजारहाहै।

विज्ञापनलंबित,लगसकतीमुहर:शासननेमार्चमाहमेंआदेशदियाथाकि11मईकोयूपीटीईटीकाविज्ञापनजारीकरके18मईसेआवेदनलिएजाएं।उससमयकोरोनाकीदूसरीलहरकीवजहसेप्रक्रियास्थगितकरदीगई।कुछदिनपहलेहीपरीक्षानियामकप्राधिकारीकार्यालयनेप्रस्तावभेजाहै।इसीमाहविज्ञापनजारीहोनेकेसाथप्रमाणपत्रभीआजीवनमान्यकियाजासकताहै।

येअभ्यर्थीरहेउत्तीर्ण